राममंदिर भूमीपूजन के बाद राजस्थान के 250 मुस्लिम लोगों ने अपनाया हिन्दू धर्म

अयोध्या में भगवान श्रीराम के मंदिर के निर्माण के भूमि पूजन के साथ ही राजस्थान के बाड़मेर जिले के 50 मुस्लिम परिवार के 250 लोगों ने हिन्दू धर्म में अपना लिया है। पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के बाड़मेर जिले में बुधवार से ही लोगों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया है। हिंदू धर्म अपनाने वाले परिवार के बुजुर्गों का मानना है कि उनके पूर्वज हिंदू थे इसीलिए राममंदिर भूमीपूजन के ऐतिहासिक दिन इन लोगों ने अपना धर्म परिवर्तन किया है। लोगों का कहना है कि उन्होंने स्वेच्छा से बिना किसी दबाव के हिंदू धर्म को अपनाया है।
धर्म परिवर्तन करने बाले लोगों का कहना है कि इनके नाम हिंदू धर्म के आधार पर थे, लेकिन पूजा पद्धति मुस्लिमों की तरह थी।

सुभनराम का कहना है कि मुगल काल में मुस्लिमों ने उनके पूर्वजों को डरा धमकाकर मुस्लिम बना दिया था लेकिन उनका असली धर्म हिंदू ही है और वह हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते थे। उनका कहना है कि इतिहास की जानकारी होने के बाद हम लोगों ने फैसला किया है कि हम हिंदू हैं और हमें वापस हिंदू धर्म में जाना चाहिए। हमारे सभी रीति रिवाज हिंदू धर्म से संबंध रखते हैं और इसके बाद परिवार ने हिंदू धर्म में वापसी की इच्छा जताई। इसके बाद घर पर हवन यज्ञ करवाकर जनेऊ पहनकर परिवार के सभी 250 सदस्यों ने हिंदू धर्म में वापसी की।

ग्राम निवासी हरुराम का कहना है कि राम मंदिर के शिलान्यास पर हमें अत्यंत खुशी है और हमने अपने घरों में दीपक जलाए हैं। गांव के पूर्व सरपंच प्रभुराम कलबी ने बताया कि ढाढ़ी जाति के परिवार के सदस्यों ने बिना किसी दबाव और अपनी इच्छा से हिंदू धर्म में वापसी की है। संविधान के अनुसार, कोई भी व्यक्ति किसी भी धर्म को अपना सकता है। इसमें किसी को कोई आपत्ति भी नहीं है। पूरे गांव ने इनके इस फैसले का सम्मान किया है।