रचनात्मक लेखन ने राष्ट्रीयता के धरातल को मजबूत किया

शासकीय नर्मदा महाविद्यालय में आज आजादी का अमृत महोत्सव की 75 वीं वर्षगांठ के आयोजन पर उच्च शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश शासन द्वारा महाविद्यालय स्तर पर “दांडी मार्च और महात्मा गांधी” विषय पर निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें अनेक छात्र-छात्राओं ने निबंध लेखन किया। इस प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार गायत्री अहिरवार (एमए चतुर्थ सेमेस्टर, भूगोल) द्वितीय पुरस्कार मयंक पांडे (बीएससी, तृतीय वर्ष) तृतीय पुरस्कार इशिता मालवीय (बी कॉम तृतीय वर्ष, कंप्यूटर) को प्राप्त हुआ। यह तीनों विद्यार्थी जिला स्तर पर महाविद्यालय का प्रतिनिधित्व करेंगे।

इस आयोजन पर प्राचार्य डॉ.ओ एन चौबे ने विद्यार्थियों से प्रतियोगिता का हिस्सा बनने पर शुभकामना संदेश में कहा कि लेखन द्वारा भी राष्ट्रीय भावना की अभिव्यक्ति की जाति रही है। स्वतंत्रता संग्राम में कलम और तलवार दोनों की अहम भूमिका थी। कार्यक्रम के संयोजक डॉ. आलोक मित्रा ने बताया कि स्वतंत्रता के 75 वर्ष अमृत महोत्सव पर महाविद्यालय के कला वाणिज्य और विज्ञान संकाय के अनेक छात्रों ने उत्साह पूर्वक निबंध लेखन किया।

कार्यक्रम की समन्वयक डॉ. हंसा व्यास ने अपने संबोधन में कहा कि इस तरह के आयोजन निश्चित रूप से देश की युवा शक्ति को एक दिशा देने में सक्षम होंगे। डॉ. जीपी रैकवार, डॉ. मीना कीर, डॉ. सरोज जावलकर, डॉ दिनेश श्रीवास्तव, श्री नितिन वाघमारे और श्रीमती मेघा रावत का इस कार्यक्रम में सहयोग रहा डॉ. अंजना यादव ने प्रतिवेदन तैयार किया।