बाबरी विध्वंस केस: स्पेशल CBI कोर्ट ने पूर्व उप प्रधानमंत्री आडवाणी से 5 घंटे में पूछे 100 सवाल, आडवाणी बोले मैं निर्दोष हूँ,

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने शुक्रवार को विशेष सीबीआई अदालत के सामने अपना बयान दर्ज कराया। लालकृष्ण आडवाणी का बयान सुबह 11ः30 बजे से 3ः30 बजे तक दर्ज किया गया।

92 साल के आडवाणी इस केस में आरोपी हैं और उन्होंने सीआरपीसी के सेक्शन 133 के तहत वीडियो लिंक के जरिए लखनऊ की अदालत में अपना बयान दर्ज कराया। गुरुवार को इसी केस में पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी की भी वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए स्पेशल सीबीआई जज एसके यादव के कोर्ट में पेशी हुई थी। लालकृष्ण आडवाणी ने कोर्ट से कहा कि तत्कालीन केंद्र सरकार ने राजनीतिक द्वेष के चलते उनपर कार्रवाई की, वह इस मामले में पूरी तरह निर्दोष हैं।

अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाने के मामले में 6 दिसंबर 1992 को थाना राम जन्मभूमि में एफआईआर दर्ज की गई थी। सीबीआई ने 49 आरोपियों के खिलाफ विशेष अदालत में चार्जशीट दाखिल की थी। इनमें 17 आरोपियों की मौत हो चुकी है। चार्जशीट में आडवाणी, उमा भारती, कल्याण सिंह, अशोक सिंघल, डॉ. मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा समेत 13 नेताओं के नाम हैं।