भोपाल में रात 10:30 बजे से सुबह 6:00 बजे तक केवल इमरजेंसी में ही निकल सकेंगे बाहर

राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमण के निरंतर बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए कलेक्टर अविनाश लवानिया ने जिले में धारा 144 लागू कर दी है। रात साढ़े दस बजे से सुबह छह बजे तक इमरजेंसी कार्याें से निकलने की अनुमति होगी। नए आदेश में सोमवार से खुलने जा रहे स्कूल के अलावा अब कॉलेज, शिक्षण एवं कोचिंग संस्थान को भी बंद रखने का आदेश जारी किया गया है। हालांकि, अधिकतम 50 प्रतिशत शिक्षक एवं अन्य स्टाफ ही नियमों का पालन करते हुए स्कूलों में जा सकेंगे, ताकि ऑनलाइन डिस्टेंस लर्निंग क्लास जारी रखी जा सके। लेकिन, स्कूल में बच्चे आएंगे या नहीं इसको लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

शासन सोमवार से 9वीं से लेकर 12वीं तक की क्लास के लिए सभी स्कूलों को खोलने के निर्देश जारी कर चुके हैं। छात्र केवल परिजनों की अनुमति लेने के बाद ही स्कूल में शिक्षक से पढ़ाई या विषय से संबंधित समाधान के लिए आ सकता है। हालांकि इस मामले में अभी स्थिति साफ नहीं है कि बच्चे को परिजनों से शिकायत के बाद स्कूल कैसे आना होगा। क्या उसे स्कूल आकर मिलने के लिए अलग से आवेदन करना होगा, या फिर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इधर जिला शिक्षा अधिकारी नितिन सक्सेना ने बताया कि कलेक्टर के आदेश को देखने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। अभी की स्थिति में तो सोमवार को किसी भी बच्चे को स्कूल नहीं आने दिया जाएगा। उसके बाद आगे की प्रक्रिया पर काम किया जाएगा।

https://twitter.com/CollectorBhopal/status/1307702591158194181?s=19

कॉलेज में यूजी और पीजी क्लास के लिए एडमिशन की प्रक्रिया चल रही है। नए आदेश में कॉलेज को भी बंद करने के निर्देश हैं, तो क्या यह भी बंद रहेंगे। इसको लेकर अब कोई भी अधिकारी कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है।

भोपाल में सभी दुकानें रात 8ः00 बजे तक बंद करनी होगीं। केवल केमिस्ट, रेस्टोरेंट, भोजनालय, राशन एवं खानपान से संबंधित दुकानें निर्धारित समय तक खुली रहेंगी। 10ः30 बजे से सुबह 6ः00 बजे तक आवश्यक और मेडिकल इमरजेंसी के अलावा सभी का निकलना प्रतिबंधित रहेगा।