राम मंदिर निर्माण में पीएम मोदी का कोई योगदान नहीं, राजीव गाँधी ने राम मंदिर की पहल की – बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी

अयोध्या में 5 अगस्त को होने जा रहे राम मंदिर भूमि पूजन से ठीक पहले भाजपा के कद्दावर नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बड़ा बयान दे दिया है। स्वामी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राम मंदिर निर्माण में कोई योगदान नहीं है और ना ही मोदी को राम मंदिर के निर्माण में कोई दिल्चस्पी है। राज्यसभा सांसद ने यह भी खुलासा किया है कि पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी ने राम मंदिर निर्माण में अड़ंगा डाला था।

उन्होंने राम मंदिर निर्माण के दिशा में कार्य करने वाले लोगों में पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी, पीवी नरसिम्हा राव और अशोक सिंघल का नाम लिया है। उन्होंने साफ तौर से इन तीनों नेताओं को राम मंदिर निर्माण का श्रेय दिया है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि यदि वे दोबारा पीएम बने होते तो कब का राममंदिर बन चुका होता, उन्होंने ही विवादित स्थल का ताला खुलवाया था।

भाजपा सांसद ने ये भी कहा कि पांच साल से राम सेतु की फाइल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के टेबल पर पड़ी हुई है। दरअसल एक टीवी चैनल के साथ बातचीत में स्वामी से सवाल पूछा गया कि राम मंदिर भूमि पूजन में और किन-किन लोगों को बुलाया जाना चाहिए था, जिन्हें नहीं बुलाया गया है। इसके जवाब में स्वामी ने कहा कि राम मंदिर में प्रधानमंत्री का कोई योगदान नहीं है। सारी बहस हमने की। जहां तक मैं जानता हूं सरकार की तरफ से उन्होंने ऐसा कोई काम नहीं किया है, जिसके बारे में कह सकें कि उसकी वजह से निर्णय आया है। स्वामी ने कहा कि जिन लोगों ने काम किया उनमें राजीव गांधी, पीवी नरसिम्हा राव और अशोक सिंहल का नाम शामिल है।