पैगंबर मोहम्मद के कार्टून के खिलाफ भोपाल में हुए प्रदर्शन पर शिवराज सरकार सख्त, FIR दर्ज

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी फ्रांस के राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रों के बयानों को लेकर लोगों में गुस्सा देखने को मिला। शहर के इकबाल मैदान पर देखते ही देखते हजारों लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई। सैकड़ों मुस्लिमों ने कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान कोरोना गाइड लाइन के उल्लंघन पर विधायक मसूद समेत करीब 2000 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। प्रदर्शन के दौरान सुरक्षित शारीरिक दूरी व कोरोना की अन्य गाइड लाइन का पालन नहीं किया गया। अब इसपर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सख़्ती दिखाई है।

सीएम शिवराज ने कहा है कि मध्य प्रदेश शांति का टापू है। इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे। इस मामले में 188 आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा, वो चाहे कोई भी हो। प्रशासनिक सूत्रों का कहना है कि कोरोना महामारी को लेकर दी गई हिदायतों का प्रदर्शन के दौरान पालन नहीं किया गया। प्रदर्शन में जो लेाग हिस्सा लेने पहुंचे वे न तो मास्क लगाए थे और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाराजगी जताने के बाद सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर भी गुस्सा हैं। उन्होंने कहा कि मैं कह रही हूं कि विश्व में आतंकवादी गतिविधियां फैलाने वाले विधर्मी हैं। भारत और भोपाल में भी इनकी कमी नहीं है। यह उन लोगों का ही समर्थन करते हैं। यह बात शुक्रवार को उन्होंने अपने निवास पर पर कही।