प्राइवेट टैब पर करिए इंटरनेट ब्राउजिंग, नहीं सताएगा हैकिंग का डर

आज के समय में इंटरनेट ब्राउजिंग भी सेफ नहीं रह गई है। इंटरनेट ज्ञान का एक ऐसा अथाह समुंदर है जहां कुछ भी खोजा, ढूंढा और पढ़ा जा सकता है। हर रोज करोड़ों लोग अलग-अलग ब्राउजर पर कुछ न कुछ ढूंढते रहते हैं। ऐसे में इंटरनेट जितना बड़ा प्लेटफॉर्म है यहां पर आपका जरूरी डेटा हैक किए जाने की संभावनाएं भी उतनी ही ज्यादा रहती हैं। हैकिंग एक ऐसी गुप्त विधा है कि आपको भनक भी नहीं लगेगी और आपका निजी डेटा हैकर्स तक पहुंच जाएगा। अगर आप भी इंटरनेट पर अपने निजी डेटा के हैक होने को लेकर हर दम फिक्रमंद रहते हैं तो यह खबर आपके काम की है। हम अपनी इस खबर में आपको एक ऐसी युक्ति बता रहे हैं जिसके बाद आप निश्चिंत हो सकते हैं।

अपनी जासूसी रोकने के लिए आप क्या कर सकते हैं, जानिए?

आमतौर पर ऐसा होता है कि वेबसाइट एक्सटेंशन के जरिए हैकर्स लोगों के ई-मेल और पासवर्ड हैक कर लेते है। इस वजह से पीड़ित लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। आप इस समस्या से बचने के लिए प्राइवेट टैप पर ब्राउजिंग का विकल्प कर निश्चिंत हो सकते हैं। आमतौर पर अधिकांश ब्राउजर्स आपकी ओर से लॉग इन करते ही आपका यूजर नेम और पासवर्ड जैसी निजी चीजें सेव कर लेते हैं। वहीं इसके उलट प्राइवेट ब्राउजिंग में यूजर्स की ब्राउजिंग पूरी तरह से सेफ रहती है। सामान्य ब्राउजिंग की तुलना में प्राइवेट ब्राउजिंग में विज्ञापन कम नजर आते हैं। अगर आप ब्राउजिंग के दौरान दिखने वाले विज्ञापनों के परेशान हो जाते हैं तो प्राइवेट ब्राउजिंग आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है।

वहीं इसके साथ ही अगर आप फेसबुक, ट्विटर और जीमेल सभी के अकाउंट एस का साथ सिस्टम पर लॉग इन करना चाहते हैं तो इसके लिए भी प्राइवेट विंडो बेस्ट ऑप्शन है। इसके अलावा कैश और कुकीज जैसे इफेक्ट से बचने के लिए लोग टेस्टिंग और डीबग्गिंग के लिए प्राइवेट ब्राउजिंग टैब का इस्तेमाल करते हैं।