कुछ देर में लगने वाला है चंद्रग्रहण, पांच घंटों तक रहेगा ग्रहण का साया

इस साल का पहला चंद्र ग्रहण आज यानी 26 मई 2021 को पड़ रहा है। दरअसल, आज लोगों को चंद्र ग्रहण के साथ सुपर ब्लड मून भी देखने को मिलेगा। आज पड़ने वाला चंद्र ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण है, जिसमें चंद्रमा के आकार में कोई बदलाव नहीं आएगा, बस उसका रंग मटमैला नजर आएगा। लेकिन भारत में चंद्र ग्रहण से जुड़े कुछ स्वास्थ्य नियमों को फॉलो किया जाता है। क्योंकि यह मान्यता है कि चंद्र ग्रहण से हमारे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। आइए इन नियमों और उन पर विज्ञान की राय जानते हैं।

साल के पहले चंद्रग्रहण को लगने में अब बस कुछ ही वक्त रह गया है। इस चंद्र ग्रहण का पहला स्पर्श दोपहर 2 बजकर 17 मिनट पर लगेगा और फिर शाम 7 बचकर 19 मिनट में अंतिम स्पर्श लगेगा। इस ग्रहण की कुल अवधि करीब पांच घंटों तक रहेगी। हालांकि उपछाया होने के कारण ग्रहण इतना प्रभावशाली नहीं है।

चंद्र ग्रहण कब लगता है? चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा के दिन लगता है। लेकिन हर पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण नहीं होता। ये तो कुछ विशेष परिस्थितियों में ही लगता है। खगोलशास्त्रियों की मानें तो चंद्र ग्रहण एक साधारण घटना है क्योंकि सौर मंडल के सभी ग्रह सूर्य के चारों तरफ और उपग्रह अपने ग्रह के चारों ओर चक्कर लगाते रहते हैं। जब सूर्य के चारों तरफ पृथ्वी और पृथ्वी के चारों तरफ चन्द्रमा चक्कर लगाते-लगाते सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा एक सीध में आ जाते हैं जिससे पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ने लगती है। तब इस स्थिति में चन्द्र ग्रहण लगता है।