पीलीभीत की मस्जिदों में हो रही थी सामूहिक नमाज, पुलिस की सतर्कता के कारण 14 गिरफ्तार

कोरोनावायरस के संक्रमण को देखते हुए मुस्लिम धर्म गुरुओं की मस्जिदों में नमाज नहीं पढ़ने की अपील की अनदेखी की जा रही है। जनपद की दो मस्जिदों में जुमे की सामूहिक नमाज में भारी संख्या में भीड़ एकत्रित हो गई। पेट्रोलिंग के दौरान पुलिस की जब नजर पड़ते ही दोनों मस्जिदों में हड़कंप मच गया, जिसके बाद पुलिस ने 14 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने तीन नाबालिग लड़कों को चेतावनी देकर छोड़ दिया।

कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सभी धर्मों के सामूहिक आयोजनों पर लोग लगाई गई है। इसके बाद भी कुछ लोग इसका पालन नहीं कर रहे हैं। शुक्रवार को जुमे की नमाज को लेकर पहले से ही प्रशासन ने अलर्ट किया था। दोपहर करीब एक बजे जब पुलिस गस्त कर रही थी तब ही उसकी नजर मस्जिदों पर पड़ी जिसके बाद मस्जिदों में भगदड़ मच गयी। कार्रवाई करते हुए पुलिस ने यहां से नौ लोगों को गिरफ्तार कर लिया, जबकि कुछ लोग भाग गए जिन्हें पीलीभीत पुलिस नहीं पकड़ पायी।

इंस्पेक्टर हरीश वर्धन सिंह ने बताया कि इस मामले में निषेधाज्ञा उल्लंघन और महामारी अधिनियम के तहत दो एफआईआर दर्ज की गई हैं। एक में मोहल्ला बिलई निवासी शाहिद हुसैन, रईस अहमद, फईम अहमद, रिजवान, शाजिद, अब्दुल नवी, बहेड़ी बरेली के गांव सिंगौती निवासी लियाकत हुसैन, हरचुइया अमरिया निवासी इश्तयाक, बमनपुरी गांव निवासी मोहम्मद हनीफ और दूसरे में मोहल्ला कच्ची हवेली निवासी मोहम्मद जाहिद, मोहल्ला नई बस्ती निवासी अदनान, शमशुल हसन, बब्बू, मोहल्ला बिलई निवासी मोहम्मद सादिक पांच लोग नामजद किए हैं। सभी आरोपियों को मुचलके पर चेतावनी देकर छोड़ दिया गया है।

कोरोना संक्रमण को लेकर नियमों का सख्ती से पालन कराने के निर्देश समस्त सीओ और थानाध्यक्षों को दिए गए हैं। – जयप्रकाश, एसपी