एमसीयू की शोध पत्रिका ‘मीडिया मीमांसा’ का विमोचन

एमसीयू की प्रदर्शनी बनी संचार एवं विचार का केंद्र

भोपाल : मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार एवं एक्सपो ‘सार्थक एजुविज़न-2021’ में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय ने प्रदर्शनी लगाई है। यह प्रदर्शनी मीडिया संबंधी गतिविधियों के कारण आकर्षण का केंद्र बन गयी है। पत्रकारिता के विद्यार्थी यहां सेमिनार में आने वाले विद्वानों के साक्षात्कार कर रहे हैं और एक समाचार पत्र ‘सार्थक एजुविज़न न्यूज़’ का प्रकाशन कर रहे हैं। इसके साथ ही पत्रकारिता एवं संचार पर केंद्रित विश्वविद्यालय का प्रकाशन भी यह उपलब्ध है।

सार्थक एजुविजन-2021 में एमसीयू के छात्रों द्वारा तैयार किया गए समाचार पत्र का विमोचन

‘सार्थक एजुविज़न-2021’ के चर्चा सत्र में कुलपति प्रो. केजी सुरेश, एनबीए के सदस्य सचिव डॉ. अनिल कुमार नासा और प्रवेश एवं शुल्क नियंत्रण समिति के अध्यक्ष डॉ. रविन्द्र कान्हेरे ने एमसीयू की ब्लाइंड पीयर रिव्यु शोध पत्रिका ‘मीडिया मीमांसा’ का विमोचन भी किया।

इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. अविनाश वाजपेयी, आरएफआरएफ के नोडल अधिकारी डॉ. पवन सिंह मलिक, संपादक डॉ. राखी तिवारी, सह-संपादक लोकेन्द्र सिंह, डॉ. रामदीन त्यागी, डॉ. उर्वशी परमार और मनीष वर्मा उपस्थित रहीं। शोध पत्रिका ‘मीडिया मीमांसा’ में संचार, पत्रकारिता, प्रबंधन, विज्ञापन, जनसंपर्क एवं फिल्म सहित अन्य क्षेत्रों में नवोन्मेषी, समाजोपयोगी एवं गुणवत्तापूर्ण शोध पत्रों को प्रकाशित किया जाता है। कुलपति और पत्रिका के मुख्य संपादक प्रो. केजी सुरेश ने बताया, राष्ट्रीय शिक्षा नीति की अपेक्षा है कि विश्वविद्यालय शोध संस्कृति को बढ़ावा दें। नये ज्ञान की रचना करें।

नवोन्मेषी और लोकहित के शोध कार्यों को बढ़ावा दें। हमारा संकल्प है कि हम संचार के क्षेत्र में शोध कार्य संबंधी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की आकांक्षा को पूरा करेंगे। मीडिया मीमांसा से हमने देशभर से संचार एवं शोध विशेषज्ञों को सलाहकार मंडल में शामिल किया है। इसके साथ ही शोध पत्रों के ब्लाइंड रिव्यु के लिए देशभर से विभिन्न विषयों के अध्येताओं एवं प्राध्यापकों को जोड़ा है।