भाजपा के दिग्गज नेता और मप्र के पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा का निधन

मप्र के पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा का निधन हो गया। शर्मा ने कुछ देर पहले भोपाल के चिरायु अस्पताल में अंतिम सांस ली।लक्ष्मीकांत शर्मा कोरोना संक्रमित थे और उनका उपचार भोपाल के चिरायु अस्पताल में चल रहा था। पूर्व मंत्री शर्मा के छोटे भाई सिरोंज विधायक उमाकांत शर्मा हैं। लक्ष्मीकांत शर्मा 11 मई को कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद वे 12 मई को भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती हुए थे। जहां उनका उपचार चल रहा था।

पूर्व मंत्री बीती 11 मई को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया । रविवार को उनकी हालत में सुधार आ गया था लेकिन सोमवार की शाम अचानक से उनकी तबीयत बिगड़ गई और उनका निधन हो गया। सीएम शिवराज ने उनके निधन पर दुख जताया है। वहीं शिवराज सरकार के मंत्री कमल पटेल ने भी ट्वीट कर लक्ष्मीकांत शर्मा के निधन पर दुख जताया है।

संघ से रहा है जुड़ाव

पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा का बचपन से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ाव रहा। बाद में वह तहसील सिरोंज के संघ कार्यवाहक भी रहे। लक्ष्मीकांत शर्मा का जुड़ाव विश्व हिंदू परिषद से भी रहा। शर्मा साल 1993 के विधानसभा चुनाव में पहली बार विधायक चुने गए। 1998 के चुनाव में एक बार फिर लक्ष्मीकांत शर्मा ने सिरोंज से जीत हासिल की।

मध्य प्रदेश में उमा भारती की सरकार में उन्हें राज्यमंत्री का पद मिला। बाद में वह बाबूलाल गौर की सरकार में भी मंत्री रहे। 2005 में शिवराज सरकार में भी उन्हें राज्यमंत्री पद की जिम्मेदारी दी गई। 2007 में शर्मा को कैबिनेट मंत्री बनाया गया।