नेक निरीक्षण गुणवत्ता की कसौटी विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित

      शासकीय नर्मदा महाविद्यालय होशंगाबाद में आइक्यूएसी समिति के तत्वधान में क्वालिटी एनहैंसमेंट स्ट्रैटेजिस फॉर नेक विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य वक्ता नेपियर टीम एवं यूजीसी समिति सदस्य डॉ धर्माधिकारी रहे। प्रभारी प्राचार्य डॉ विनीता अवस्थी ने कार्यक्रम के आरंभ में महाविद्यालय के संसाधनों एवं समस्त गतिविधियों जैसे खेलकूद एन.एस.एस. एन.सी.सी. आत्मरक्षा आदि के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। वर्ल्ड बैंक प्रभारी डॉ. रश्मि तिवारी ने विषय प्रवर्तन करते हुए कहा कि शिक्षण अधिगम को प्रवाभी बनाने में नेक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मुख्य वक्ता के रूप में डॉ. एन.एस. धर्माधिकारी शिक्षाविद पुणे महाराष्ट्र में नेक मूल्यांकन के संबंध में विस्तार और गहनता से मार्गदर्शन दिया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि नेक निरीक्षण वस्तुतः महाविद्यालय की गुणवत्ता की कसौटी है। इस कसौटी पर खरा उतरने के लिए महाविद्यालय परिवार के प्रत्येक सदस्य का पूर्ण योगदान आवश्यक है तभी महाविद्यालयीन उन्नयन संभव हो सकता है। संयोजक एवं आइक्यूएसी सेल प्रभारी डॉ. ममता गर्ग प्राध्यापक अंग्रेजी ने संचालन करते हुए सबका शाब्दिक स्वागत किया एवं कार्यक्रम के उद्देश्य के बारे में विस्तार पूर्वक बताया। अर्थशास्त्र विभाग की विभागाध्यक्ष एवं प्राध्यापक डॉ. सविता गुप्ता ने आभार प्रदर्शन किया।

इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के प्राध्‍यापकगण डॉ संजय चौधरी डॉ एस.सी हर्णे डॉ सुधीर दीक्षित डॉ. आलोक मित्रा डॉ राजीव शर्मा डॉ. मीना कीर डॉ. कल्पना विश्वास डॉ. एन आर. अडलक डॉ अंजना यादव डॉ.सरोज जावलकर डॉ. अर्पणा श्रीवास्तव उपस्थित रहे डॉ अश्विनी यादव डॉ नीता वर्मा डॉ चेतना पवार का विशेष योगदान रहा प्रतिवेदन डॉ यादव एवं डॉ. अर्पणा श्रीवास्तव द्वारा प्रस्तुत किया गया। इस सेमिनार में देश के विभिन्न राज्यों से लगभग 219 प्रतिभागियों ने गूगल तथा यूट्यूब के माध्यम से अपनी सहभागिता सुनिश्चित की।