बोरवेल में गिरे बच्चे को निकालने का अभियान अंतिम चरण में

मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर में बीते 55 घंटों से बोरवेल में गिरे तीन साल के बच्चे को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है। समय बीतने के साथ-साथ उम्मीदें भी धुंधली होती जा रही है। लेकिन बचाव दल ने अभीतक उम्मीद नहीं छोड़ी है। घटनास्थल पर बच्चे को बोरवेल से निकालने के लिए सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, लोकल पुलिस और स्थानीय प्रशासन दिन रात एक किए हुए हैं। घटना स्थल पर 6 जेसीबी मशीनों से लगातार बोरवेल के आसपास खुदाई की जा रही है और बच्चे को लगातार ऑक्सीजन सप्लाई दी जा रही है।

जेसीबी से खुदाई अब बच्चे के पास तक पहुँच चुकी है इसलिए अब इसे मानवीय तरीकों से खोदा जा रहा है, ताकि बच्चे तक बनाई जाने वाली सुरंग धंस न जाए। अधिकारियों का कहना है कि पहली प्राथमिकता बच्चे तक सही-सलामत पहुंचना है, ताकि कोई भी हादसा होने पर बच्चे को नुकसान न पहुंचे। एक दिन पहले प्रदेश के गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा था कि निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर क्षेत्र में बोरवेल में गिरे बच्चे को बचाने का प्रयास युद्धस्तर पर जारी है।

एक तरफ राहत और बचाव कार्य चल रहा है वहीं दूसरी तरफ लोग मंदिरों में पूजा पाठ भी कर रहे हैं, हर तरफ यही कामना की जा रही है कि बच्चे को सुरक्षित निकाल लिया जाए। सूत्रों का कहना है कि राहत और बचाव कार्य में लगे दल के सुझाव पर रेलवे की सुरंग बनाने वाली मशीन बुलाई गई है, ताकि खुदाई के बाद गड्ढे तक सुरंग बनाई जा सके। सुरंग बनाए जाने से एक तरफ जहां बच्चे को किसी तरह का नुकसान नहीं हो सकता तो दूसरी मिट्टी आदि के ढहने पर राहत और बचाव कार्य में लगे लोगों केा नुकसान की आशंका नहीं रहेगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बच्चे के सुरक्षित निकालने की कामना करते हुए कहा, ‘ओरछा के सेतपुरा गांव में बोरवेल में गिरे मासूम प्रह्लाद को बचाने के लिए स्थानीय प्रशासन के साथ सेना बचाव कार्य में जुटी है।

बच्चे पर नजर रखने के लिए कैमरा अंदर डाला गया है। इसे टीवी से कनेक्ट किया गया है। यह फुटेज सिर्फ माता-पिता और उनके परिजनों को दिखाए जा रहे हैं। हालांकि अभी यह फुटेज जारी नहीं किए हंै। सैतपुरा गांव में रहने वाले हरकिशन कुशवाहा अपने चार वर्षीय पुत्र प्रहलाद व स्वजन के साथ बुधवार सुबह नौ बजे खेत पर पहुंचे थे। वह कुछ दिन पूर्व ही खेत में करवाए गए बोरवेल में पाइप डालने की तैयारी में थे। बच्चा खेत में खेलने लगा और वह व अन्य सदस्य पाइप डालने की तैयारी में जुट गए तभी अचानक बच्चा बोरवेल में गिर गया था ।