नर्सिंग के डिग्रीधारी आवेदकों ने उपचुनाव में विरोध करने की चेतावनी दी

भोपाल : एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी की भर्ती के नियम में बदलाव करवाने की मांग और तकनीकी खामियों को दुरुस्त करने की मांग को लेकर आज प्रदेश के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री प्रभुराम चैधरी को ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन के माध्यम से रवि ने मंत्री से अनुरोध किया है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा वर्तमान में ‘सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी‘ की 3800 पदों पर भर्तियां निकाली गयी है जिसमें चतुर्थ वर्ष की अंकसूची के साथ सामुदायिक स्वास्थ्य का प्रमाण पत्र संलग्न करना आवश्यक बताया गया है। हम सभी नर्सिंग चतुर्थ वर्ष के छात्र-छात्राएं चाहते है कि सामुदायिक स्वास्थ्य विषय कोर्स वर्ष 2020 में नर्सिंग कोर्स के अध्ययन के साथ सम्मिलित किया गया है।

परन्तु वह छात्र-छात्राएं जिन्होंने 4 वर्षीय कोर्स 2020 में पूर्ण किया है , उन छात्रों को यह प्रमाण पत्र प्राप्त नही है वह विद्यार्थी इन पदों की भर्ती के लिए योग्य नही है जिसका मतलब है कि ये भर्तियां हम सभी नर्सिंग चतुर्थ वर्ष अध्यनरत विद्यार्थियों के लिए नही हैं फिर इन 3800 पदों की भर्ती का क्या अर्थ रह जायेगा?

रवि ने मंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप करके इस तकनीकी खामी को विलोपित करवाने की मांग की है जिससे नर्सिंग की पढ़ाई कर चुके अभ्यर्थियों को रोजगार सरलता और सुगमता से मिल सके।

नर्सिंग के अभ्यर्थियों ने मंत्री को चेतावनी दी कि अगर जल्द से जल्द नियम में बदलाव नहीं कि गया तो सांची विधानसभा में पहुँच कर उपचुनाव में मंत्री के विरोध में मतदान करवाने की अपील करेगे