मेडिकल विश्वविद्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर NSUI ने राजभवन से मांगा समय

भोपाल : एनएसयूआई मेडिकल विंग ने प्रदेश के एकमात्र मेडिकल विश्वविद्यालय जबलपुर में व्याप्त भ्रष्टाचार और विसंगतियों को लेकर मध्य प्रदेश के महामहिम राज्यपाल महोदय से चर्चा कर भ्रष्ट अधिकारियों के मयसाक्षय देकर कार्यवाही के लिए महामहिम राज्यपाल महोदय के संज्ञान में लाने के लिए जल्द मुलाकात कर शिक्षा माफियाओं और भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्रवाई करवाने के लिए राजभवन से समय मांगा है।

एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने बताया कि प्रदेश में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर में है इस भ्रष्टाचार के कारण प्रदेश के लाखों मेडिकल विद्यार्थियों का भविष्य दाव पर लगा हुआ है मेडिकल विश्वविद्यालय के उप कुलसचिव सुनील खरे के संरक्षण में विश्वविद्यालय में पिछले कई वर्षों से भ्रष्टाचार किया जा रहा हैं ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को कुलपति भी बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

परमार का कहना है कि मेडिकल विश्वविद्यालय शिक्षा माफियाओं के अनुरूप कार्य करता है जिससे कि मध्य प्रदेश में मेडिकल शिक्षा माफिया लगातार फल फूल रहे हैं और सूचना अधिकार अधिनियम के माध्यम से अगर जानकारी मांगी जाती है तो विश्वविद्यालय भ्रमित करने का प्रयास करता है ऐसे में शिक्षा माफिया बेखौफ होकर भारी भ्रष्टाचार करते हैं।

रवि परमार ने आरोप लगाया है कि कई बार तो मेडिकल विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ टी एन दुबे अपने कार्यालय से लापता रहते हैं ऐसे में छात्र छात्राएं कई किलोमीटर का सफर करके विश्वविद्यालय पहुंचते है तो कुलपति अपने कार्यालय से लापता मिलते हैं। जिसके बाद कुलपति की अनुपस्थिति में वहाँ पर मौजूद कोई भी अधिकारी उनकी समस्या नहीं सुनता है ऐसे में छात्र छात्राएं को काफी परेशानियों का सामना उठाना पड़ता है।