मध्यप्रदेश के सरकारी कॉलेजों में 1 अक्टूबर से ऑनलाइन पढ़ाई शुरू

मध्य प्रदेश में 1 अक्टूबर से प्रदेश के सभी सरकारी कॉलेज खुलने जा रहे हैं। सरकारी कॉलेजों में अब यूजी और पीजी की पढ़ाई ऑनलाइन शुरू हो रही है। 1 अक्टूबर से सरकारी कॉलेजों के यूजी और पीजी के छात्रों की ऑनलाइन क्लासेस लगने वाली हैं। ऑनलाइन क्लासेस को लेकर उच्च शिक्षा विभाग ने विभागीय आदेश जारी कर दिया है। ऑनलाइन पढ़ाई पोर्टल के माध्यम से वर्चुअल होगी। वर्चुअल पढ़ाई के लिए 6 विश्वविद्यालयों के प्रोफेसर कंटेंट तैयार करेंगे।

सरकारी कॉलेजों में ऑनलाइन पढ़ाई कराने के लिए कंटेंट तैयार करने की जिम्मेदारी 6 विश्वविद्यालयों के प्रोफेसरों को दी गई है। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल, जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर, उच्च शिक्षा उत्कृष्टता संस्थान भोपाल, मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय भोपाल के प्रोफेसरों को ऑनलाइन कंटेंट पोर्टल पर उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी दी गई है।

मप्र शासन के उच्च शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार कोविड संक्रमण से छात्रों को बचाने के उद्देश्य से शासकीय महाविद्यालय सुखतवा में 1 अक्टूबर से ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित कर पढ़ाई शुरू की जाएगी। इन कक्षाओं के संचालन के लिए कॉलेज में सभी प्राध्यापकों की बैठक आयोजित की गई। जिसमें कक्षाओं के संचालन की रूपरेखा पर चर्चा की गई। बैठक में निर्णय लिया गया कि सभी विद्यार्थियों के उपलब्ध मोबाइल नंबरों के आधार पर कक्षा व विषयवार अलग-अलग सोशल मीडिया पर समूह बनाकर निर्धारित समय सारिणी के अनुसार गूगल मीट, वेबेक्स, माइक्रोसॉफ्ट मीटिंग के माध्यम से अध्यापन कार्य कराया जाएगा।

प्रभारी प्राचार्य डॉ. शीला ठाकुर ने बताया कि ऑनलाइन अध्यापन के लिए 30 सितंबर को सभी कक्षाओं के छात्रों के सोशल मीडिया समूह में विषयवार टाइम टेबल व अध्ययन के लिए लिंक जारी कर दी गयी, जिससे संबंधित विषय के छात्र अपनी कक्षा में समय पर अपनी उपस्थिति दर्ज कर सकें।

ऑनलाइन क्लासेस की मॉनिटरिंग करेंगे अधिकारी

सरकारी कॉलेजों में लगने जा रही ऑनलाइन क्लासेस की मॉनिटरिंग करने के लिए अधिकारियों की टीम गठित की गई है। हर संभाग में एक-एक अधिकारी ऑनलाइन क्लासेस की मॉनिटरिंग करेंगे. ग्वालियर, इंदौर, जबलपुर, उज्जैन सागर, रीवा, भोपाल संभाग में एक-एक अधिकारी को मॉनिटरिंग के लिए नियुक्त किया गया है। अधिकारी 7 दिनों तक ऑनलाइन क्लासेज के संचालन की मॉनिटरिंग करेंगे। शुरुआती एक हफ्ते तक चलने वाली ऑनलाइन क्लासेस के संचालन की रिपोर्ट उच्च शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को भेजेंगे।
डॉ. धीरेंद्र शुक्ल, ओएसडी, उच्च शिक्षा