पीलीभीत में नौकरी के लिए जुटी हजारों की भीड़, उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों को लेकर सरकार और अधिकारी सजगता और सुरक्षा के तमाम दावे कर रहे हैं लेकिन पीलीभीत में इन दावों की धज्जियां उठाई जा रही हैं। पीलीभीत के स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। सीएमओ दफ्तर में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग की तरफ से निकाली गई सीधी भर्तियों के लिए हजारों की संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी। भीड़ ने न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया ना ही दो गज दूरी और मास्क जैसे सुरक्षा इंतजामों का पालन किया।

एक तरफ जिला प्रशासन शहर के मुख्य चैराहों पर लाखों रुपए खर्च कर जागरूकता के लिए लाउडस्पीकर लगाकर लोगों को जागरूक कर रही है तो वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग ही नियमों को ताक पर रखकर अपनी मनमानी कर रही है। दरअसल कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए निविदा के आधार पर सीधी भर्ती निकाली गई थी। इस दौरान वार्ड बॉय सहित तमाम पदों के लिए हजारों की संख्या में सीएमओ दफ्तर के बाहर भीड़ जमा हो गई।

बेरोजगारी एवं कारोना काल में नौकरी के लिए कहीं लोग बिना मास्क के खड़े नजर आए तो कहीं भारी संख्या में लोगों की भीड़ इंटरव्यू के इंतजार में घंटों लाइन में खड़ी नजर आई। स्वास्थ्य विभाग की ओर से न तो किसी प्रकार का सुरक्षा इंतजाम किए गए और न ही किसी प्रकार की कोई सेनिटाइजेशन जैसी व्यवस्था दिखी।