वाटर प्रोजेक्ट नॉर्थ ईस्ट की बहनों के लिए रक्षा बंधन का तोहफा: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मणिपुर के लिए जलापूर्ति परियोजना की आधारशिला रखी। परियोजना के तहत मणिपुर के 16 जिलों के 2,80,756 परिवारों के घर तक जल पहुंचाने का लक्ष्य है। पीएमओ के अनुसार, जल परियोजना इस तरह से तैयार की गई है, जिससे ग्रेटर इंफाल योजना क्षेत्र, 25 कस्बों व 1731 ग्रामीण बस्तियों के शेष बचे परिवारों को ताजा जल घरेलू नल कनेक्शन से मुहैया कराया जा सके।
प्रधानमंत्री ने नॉर्थ ईस्ट के लिए तीन ‘पी’ का जिक्र किया। कहा, “नॉर्थ ईस्ट में शांति की स्थापना हो रही है। पीस, प्रोग्रेस और प्रॉस्परिटी का मंत्र गूंज रहा है।”

पीएम मोदी ने देश के संबोधन में कहा कि केंद्र की ओर से राज्य सरकार को लगातार मदद की जा रही है, राज्य सरकार कोरोना से निपटने में लगी हुई है। पीएम ने कहा कि राज्य में करीब 25 लाख लोगों को मुफ्त अनाज मिला है, डेढ़ लाख से अधिक महिलाओं को मुफ्त गैस सिलेंडर मिला है। प्रधानमंत्री ने कहा कि रोज एक लाख पानी के कनेक्शन दिए जा रहे हैं।

पीएम ने कहा कि पूर्वोत्तर के सभी राज्यों की राजधानी को फोर लेन, जिला मुख्यालय को टू लेन और गांवों को ऑल वेदर रोड से जोड़ा जाएगा। इसके लिए तेजी से काम चल रहा है। इसके अलावा रेल कनेक्टविटी को भी काफी तेजी से बढ़ाया गया है। साथ ही पूर्वोत्तर में आज कुल 13 एयरपोर्ट हैं, जिनका विस्तार भी किया जा रहा है। अब सरकार की ओर से नदियों के रास्ते से वाटर-वे बनाए जा रहे हैं।

भाषण के आखिर में पीएम ने कोरना संकट का जिक्र भी किया। कहा, “विकास और विश्वास के रास्ते को हमें मजबूत करते रहना है। हमारे सपने में कहीं कोई रुकावट नहीं आए। समय सीमा से पहले हम काम कर पाएं। माता-बहनें हमें ऐसा आशीर्वाद दें। रक्षाबंधन का पर्व आने वाला है, ऐसे में आपसे आशीर्वाद का आग्रह करता हूं।