RSS के स्वयंसेवक ने कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के लिए दान में दिया अपना शरीर

देश में कोरोना वायरस का संक्रमण निरंतर फैल रहा है ऐसी स्थिति में कोविड 19 से लड़ने के लिए आईसीएमआर और भारत बायोटेक देश में वैक्सीन तैयार कर रहे हैं। 15 अगस्त को इसे लांच करने की तैयारी है। 7 जुलाई (मंगलवार) से इस नए टीके के क्लीनिकल ट्रायल भी शुरू हो चुके हैं। आईसीएमआर और भारत बायोटेक को बड़ी दुविधा थी की वैक्सीन के ट्रायल के लिए मानव शरीर कहाँ से प्राप्त होगा लेकिन आईसीएमआर की इस दुविधा को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक चिरंजीत धीवर ने दूर कर दिया है। पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में रहने बाले शिक्षक चिरंजीत धीवर ने वैक्सीन के ट्रायल के लिए अपना शरीर देने की पेशकश की थी। चिरंजीत के पेशकश को स्वीकार करते हुए आईसीएमआर द्वारा उन्हें सूचित किया गया है कि उनका चयन ट्रायल के लिए किया गया है।

चिरंजीत धीवर का कहना है कि संघ से ही प्रेरित होकर वह मानव सेवा के लिए आगे आए हैं। ICMR द्वारा इस व्यक्ति का ट्रायल कोरोना संकलित और गैर कोरोना संक्रमित व्यक्तियों पर किया जाएगा। यह ट्रायल पहले पटना केंद्र पर होना था, लेकिन बाद में भुवनेश्वर केंद्र पर परीक्षण करना तय किया गया। चिरंजीत धीवर बंगाल के दुर्गापुर में स्कूल में अध्यापक हैं। साथ ही, आरएसएस की अनुषांगिक संगठन अखिल भारतीय राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ की प्राथमिक इकाई के राज्यस्तरीय कमेटी में सदस्य हैं।