राम मंदिर भूमि पूजन के दिन मंडरा रहा आतंकी हमले का साया, हाई अलर्ट पर पूरा देश

अयोध्या में पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। इस बीच पाकिस्तान की खुफिया एंजेंसी आईएसआई ने भूमि पूजन वाले दिन भारत में बड़े आतंकी हमले की साजिश रची है। आईएसआई ने पाकिस्तानी आतंकियों को ट्रेनिंग देने के बाद भारत भेजा है। इस साजिश के खुलासे के बाद सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। अधिकारियों का कहना है कि आईएसआई के इशारे पर अफगान ट्रेंड फिदायीन हमले की साजिश रची गई है। यूपी के साथ कश्मीर घाटी को लेकर भी अलर्ट किया गया। इंडो नेपाल बॉर्डर सीमा पर एसएसबी के साथ यूपी एटीएस सक्रिय की गई है।
हाल ही में नेपाल से जारी तनाव के बीच इस रास्ते से घुसपैठ की आशंका अत्यधिक हो गयी है। लिहाजा यूपी के डीजीपी के आदेश पर डीआईजी छह अगस्त तक कैंप करने पीलीभीत पहुंचे हुए हैं। सीमा पर उत्तराखंड पुलिस की मुस्तैदी देखकर उन्होंने चैकी इंचार्ज को सराहा और एसपी पीलीभीत को इसी तर्ज पर यूपी की सीमा पर सुरक्षा बढ़ाने को कहा।

बरेली से डीआईजी राजेश कुमार पांडेय को पीलीभीत भेजा गया है। वहां वह छह अगस्त तक कैंप करेंगे। इधर डीआईजी राजेश कुमार पांडेय ने यूपी और उत्तराखंड की सीमा का औचक निरीक्षण किया।

सीमा पर खटीमा पुलिस के हल्दी घेरा देवहा पुल पर सुरक्षा व्यवस्था देखकर उन्होंने चैकी प्रभारी सुरेंद्र प्रताप बिष्ट की सराहना भी की। डीआईजी ने औचक निरीक्षण के दौरान सीमा पर सुरक्षा का आकलन कर तत्काल एसपी पीलीभीत जय प्रकाश को उत्तराखंड पुलिस की तर्ज पर सीमा पर सुरक्षा बढ़ाने को कहा है।

सीमा पर दोनों राज्यों की पुलिस तालमेल बनाकर सुरक्षा और कार्य किए जाएंगे। इस दौरान सीओ जहानाबाद प्रमोद कुमार, एसओ खीम सिंह जलाल, मझोला चैकी प्रभारी कमलेश कुमार आदि उपस्थित रहे। अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन करने प्रधानमंत्री मोदी जा रहे हैं। चीन के प्रभाव में आए नेपाल की ओर से भी आतंकी घुसपैठ की आशंका है। ऐसे में यूपी पुलिस के डीजीपी ने वरिष्ठ अधिकारियों को नेपाल बॉर्डर से जुड़े इलाकों में निगरानी की जिम्मेदारी दी है।