राहत इंदौरी के वे शेर जिन्होंने उन्हें शायरी सम्राट बना दिया

जाने-माने उर्दू शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। मंगलवार शाम पांच बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। उन्हें कोरोना संक्रमण था। मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित अरबिंदो अस्पताल में वह भर्ती थे। वहां उन्हें आज दो बार दिल का दौरा पड़ा जिसके बाद उन्हें बचाया नहीं जा सका। राहत इंदौरी के बेटे सतलज ने उनके निधन की जानकारी दी थी, जिसके बाद राहत इंदौरी के औपचारिक ट्वीटर हैंडल से भी इस बारे में ट्वीट किया गया। राहत इंदौरी भले ही अब हमारे बीच नहीं रहे लेकिन उनके शेर आज भी हमारे साथ हैं। पढ़िए उनके मशहूर शेर

1. ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेस में वो किससे रजाई मांगे

2. तूफानों से आंख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो

3. फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो
इश्क खता है तो, ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो

4. तूफानों से आंख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो

5. दो गज सही ये मेरी मिल्कियत तो है
ऐ मौत तूने मुझे जमींदार कर दिया।

6. नये किरदार आते जा रहे है
मगर नाटक पुराना चल रहा है।