लव जिहाद पर योगी की चेतावनी- नहीं सुधरे तो राम नाम सत्य की यात्रा निकलेगी

मल्हनी विधानसभा उपचुनाव में प्रत्याशी के समर्थन में शनिवार की दोपहर 2.45 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हेलीपैड पर पहुंचे। हेलिपैड पर ही भाजपा नेताओं और पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और मंच पर पहुंचते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन किया। मंच पर मुख्यमंत्री का पार्टी कार्यकताओं और पदाधिकारियों ने फूल मालाओं से स्वागत किया। प्रत्याशी के समर्थन में आयोजित जनसभ में राम मंदिर और लव जिहाद जैसा मामला भी छाया रहा। सभा में मुख्यमंत्री ने स्त्रियों के सम्मान के लिए लव जिहाद पर कानून बनाने की भी बात कही।

योगी ने कहा कि अपराधियों से सहानुभूति रखने वाली पार्टियों को समर्थन नहीं मिलना चाहिए। सपा गुंडों की नई श्रृंखला बना रही है ताकि दंगे कराए जा सकें, लेकिन सरकार ऐसा नहीं होने देगी। योगी ने कहा कि राज्य सरकार मिशन शक्ति के जरिये बेटियों के अपराधियों को जेल भेजने के साथ ही उनके पोस्टर चैराहों पर लगा रही है। लव जेहाद का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने मंच से ऐलान किया कि लव जेहाद नहीं चलने देंगे। लव जेहाद पर बहुत तेजी से सख्ती करने जा रही है सरकार। योगी ने कहा कि चीनी मिलें बेच कर किसानों, नौजवानों को बेरोजगार करने वाले सपा, बसपा के लोग किस मुंह से जनता के बीच जा रहे हैं ।

जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि कल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि शादी-व्याह के लिए धर्म परिवर्तन आवश्यक नहीं है। नहीं किया जाना चाहिए। इसको मान्यता नहीं मिलनी चाहिए। इसलिए सरकार भी निर्णय ले रही है कि हम लव जिहाद को शख्ती से रोकने का काम करेंगे। एक प्रभावी कानून बनाएंगे। इस देश में चोरी छिपे, नाम छुपाकर और धर्म छुपाकर के जो लोग बहन बेटियों के साथ खिलवाड़ करते हैं, उनको पहले से मेरी चेतावनी है। अगर वे सुधरे नहीं तो राम नाम सत्य है की यात्रा अब निकलने वाली है।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, ‘हमलोग मिशन शक्ति को इसीलिए चला रहे हैं। मिशन शक्ति के माध्यम से हम बेटी और बहन को सुरक्षा की गारंटी देंगे। लेकिन उन सब के बावजूद अगर किसी ने दुस्साहस किया तो ऑपरेशन शक्ति अब तैयार है। ऑपरेशन शक्ति का उदेश्य है कि हम हर हाल में बहन-बेटियों की सुरक्षा और सम्मान की रक्षा करेंगे। इसी दृष्टि से ऑपरेशन शक्ति को आगे बढ़ाने के साथ अब हम चल रहे हैं। न्यायालय के आदेश का भी पालन होगा और बहन-बेटियों का भी सम्मान होगा।