मप्र के छोटे से कस्बे के छात्र ने बिना कोचिंग के UPSC 2019 को किया क्रैक

देश की सबसे कठिन परीक्षा माने जाने वाली यूपीएससी का अंतिम परिणाम 4 अगस्त को आने के बाद अनेक छात्र जानना चाहते हैं कि आखिर वो कौन हैं जिन्होंने इस कठिन परीक्षा को पास किया है। तो आइए आज हम आपको ऐसे ही एक शख्स से मिलाने जा रहे हैं।

मप्र से इस बार 19 लोगों का चयन हुआ है। उन्हीं में से एक नाम है वैभव त्रिवेदी जिन्होंने UPSC 2019 में 327 वीं रैंक प्राप्त की है।
वैभव मप्र के छतरपुर जिले के लवकुशनगर तहसील के एक मध्यमवर्गीय परिवार से हैं। पिता पेशे से स्कूल प्रिंसिपल हैं, वहीं मां पेशे से लोअर कोर्ट में वकील हैं।

वैभव इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देते हैं। जिन्होंने शुरू से उन्हें पढ़ाई का माहौल दिया। स्वयं के खर्च कम कर फाइनेंशियल सपोर्ट देते रहे।

मंथन न्यूज 24 के जर्नलिस्ट पिंटू अवस्थी को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में वैभव त्रिवेदी कहते हैं – जब परिणाम आए तो सबसे पहले ये खुशी की खबर मुझे दोस्तों से पता लगी। परिणाम के दिन से ही घर में खुशी का माहौल छाया हुआ है।

मंथन न्यूज 24: शैक्षणिक योग्यता के बारे में बताइए?
वैभव: कक्षा 5वीं तक मैंने लवकुशनगर के विद्यालय में ही पढ़ाई की। इसके बाद नौगांव के नवोदय विद्यालय से 12वीं तक की पढ़ाई पूरी की। IIT का एंट्रेस क्वालिफाई कर IIT – BHU से 2015 में बीटेक कंपलीट किया। कॉलेज से प्लेसमेंट होने के बाद गुड़गांव में रहकर 2 साल तक ओयो कंपनी में जॉब भी की है।
मंथन न्यूज 24: लाखों की नौकरी छोड़ यूपीएससी का ख्याल मन में कैसे आया?
वैभव : एक्सपीरियंस काउंट करने के लिए मैंने जॉब की थी लेकिन एक सिक्योर जॉब जरूरी थी।
मंथन न्यूज 24: यूपीएससी परीक्षा के लिए किसी से प्रभावित हुए थे?
वैभव: अपने आईएएस दोस्त से प्रभावित था,साथ ही यूपीएससी 2015 में एयर 6जी रैंक लाने वाले छतरपुर जिला के ही आशीष तिवारी से भी बहुत प्रभावित हुआ था।
मंथन न्यूज 24: ये आपका कौन सा प्रयास था?
वैभव: ये मेरा दूसरा प्रयास था। पहले प्रयास में मेंस लिखने का अवसर मिला लेकिन 7 अंक कम होने से इंटरव्यू में नहीं बैठ पाया था।
मंथन न्यूज 24: यूपीएससी परीक्षा की तैयारी में कितना समय दिया है?
वैभव: दिल्ली में रहकर 3 साल डेडिकेट होकर तैयारी की है।
मंथन न्यूज 24: दिल्ली में 3 साल रहकर आपने कौन सी कोचिंग ज्वाइन की थी ?
वैभव: मैं 3 साल दिल्ली में जरूर रहा लेकिन कोचिंग नहीं की। हां, वैकल्पिक विषय के लिए जरूर 2 महीने की कोचिंग की थी।
मंथन न्यूज 24: इंजीनियरिंग बैकग्राउंड के ही अधिकतर स्टूडेंट यूपीएसी परीक्षा पास क्यों कर रहे हैं। आपने भी इंजीनियरिंग की है।
वैभव: ये तो नहीं बता सकता, लेकिन IITian,NITian पहले से ही इंजीनियरिंग एंट्रेस एग्जाम क्लीयर कर कॉलेज में प्रवेश लेते हैं इसके बाद वहां का एटमोसफेयर और मजबूत बना देता है।
मंथन न्यूज 24: आपके मेंस व इंटरव्यू का माध्यम क्या था ?
वैभव: अंग्रेजी माध्यम
मंथन न्यूज 24: यूपीएससी परीक्षा परिणाम में हिंदी माध्यम का अनुपात घटता ही जा रहा है। क्या अंग्रेजी भाषा ज्यादा हावी है?
वैभव: सभी भाषाएं अच्छी हैं। अंग्रेजी माध्यम में यही है कि मटेरियल ज्यादा अवेलेबल है। लेकिन अब हिंदी माध्यम में भी अच्छा कंटेट मिल रहा है। ऑनलाइन भी हिंदी में अच्छा मटेरियल मिल रहा है।
मंथन न्यूज 24: तैयारी के दौरान कभी नकारात्मक हुए हैं?
वैभव: हां,कई बार लेकिन संगीत सुनकर, फैमिली मेंबर व दोस्तों से बात करके सकारात्मक हो जाता था।
मंथन न्यूज 24: सोशल मीडिया पर कितना एक्टिव रहते थे?
वैभव: नहीं,मैं सोशल मीडिया पर कम ही रहा हूं। अभी भी सिर्फ वाट्सएप पर ही हूँ।
मंथन न्यूज 24: प्रीलिम्स व मेंस परीक्षा की तैयारी कैसे की?
वैभव: प्रीलिम्स परीक्षा में वैकल्पिक प्रश्न होते हैं, इसलिए फैक्टस पर पकड़ और गैसिंग करनी होती है। जबकि मेंस परीक्षा में आंसर राइटिंग का फार्मेट बहुत मायने रखता है। मैंने सेल्फ स्टडी के दौरान स्वयं से नोट्स बनाए थे।
मंथन न्यूज 24: आपके अनुसार न्यूज पेपर कौन सा पढ़ना चाहिए?
वैभव: द हिंदू, द इंडियन एक्सप्रेस, दैनिक जागरण । हां,मैं अपने अधिकतर नोट्स द इंडियन एक्सप्रेस से ही बनाता था।
मंथन न्यूज 24: आपने वैकल्पिक विषय (ऑप्शनल सब्जेक्ट) क्या चुना था?
वैभव: राजनीति विज्ञान (पॉलिटिकल साइंस)।
मंथन न्यूज 24: एसे राइटिंग(निबंध लेखन) के लिए क्या टिप्स है?
वैभव: बॉडी स्ट्रेक्चर कन्क्लूजन फार्मेट रखें। अगर आपका आंसर दूसरों के लिखे आंसर से अलग है तो निश्चित ही आपको अधिक मार्क्स मिलेंगे।
मंथन न्यूज 24: एथिक्स पेपर के लिए क्या टिप्स है?
वैभव: एथिक्स के लिए कोई स्पीसिफिक बुक तो नहीं हैं, आप क्या सोचते हैं.आपको किसी भी टॉपिक के प्रोस(फायदा) व कोंस(नुकसान) पता हों ।
मंथन न्यूज 24: साइंस एंड टेक्नोलॉजी पेपर के लिए ?
वैभव: करंट अफेयर्स बहुत जरूरी है। स्वंय के नोट्स जरूर बनाएं।
मंथन न्यूज 24: इंटरव्यू में मप्र से रिलेटेड आपसे कोई प्रश्न पूछा गया था?
वैभव: हां, मप्र के एग्रीकल्चर को कैसे बढ़ाया जाए।
मंथन न्यूज 24: 327वीं रैंक है,आईएएस बनना है तो क्या फिर से प्रयास करेंगे?
वैभव: हां, एक बार फिर प्रयास करूंगा और अपनी गलतियों में सुधार कर अच्छी रैंक लाना चाहूंगा।
आपको और आपके परिवार को मंथन न्यूज 24 की तरफ से ढेर सारी शुभकामनाएं। मंथन न्यूज 24 आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता है।