योगी सरकार अब बदलने जा रही है इस रेलवे स्टेशन का नाम

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद से ही कई शहरों के नाम बदले गए हैं। विपक्ष की ओर से इसका विरोध भी किया गया। लेकिन योगी सरकार प्रदेश को वापस वो पहचान दिलाने की कोशिश में लगी है जो विदेशी आक्रमणकारियों द्वारा धूमिल कर दी गई थी। इसी क्रम में यूपी सरकार की तरफ से उत्तर प्रदेश के तीन प्रमुख स्थानों के नाम बदले गए। इलाहाबाद को प्रयागराज, मुगलसराय को दीन दयाल उपाध्याय नगर और फैजाबाद को अयोध्या किया गया।

उत्तर प्रदेश सरकार ने झांसी स्टेशन का नाम बदलकर ‘वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन’ करने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को दिया है। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने मंगलवार को लोकसभा में बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार के प्रस्ताव पर प्रक्रिया के तहत संबंधित एजेंसियों से प्रतिक्रियाएं और टिप्पणियां मांगी गई हैं। एक सवाल के लिखित जवाब में मंत्री ने कहा कि सभी संबंधित एजेंसियों से प्रतिक्रियाएं और टिप्पणियां आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

केंद्रीय गृह मंत्रालय किसी भी रेलवे स्टेशन या स्थान के नाम को बदलने के प्रस्ताव को रेल मंत्रालय, डाक विभाग व भारतीय सर्वेक्षण विभाग से अनापत्ति मिलने के बाद हरी झंडी देता है। इन विभागों को यह बताना होता है कि प्रस्तावित नाम से कोई शहर या गांव पहले से उनके रिकार्ड में नहीं है। अगर किसी राज्य का नाम बदलना हो तो उसके लिए संसद में साधारण बहुमत के साथ संविधान में संशोधन करना पड़ता है।

गृह राज्य मंत्री ने लोकसभा में इसकी जानकारी दी है। केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय की ओर से सदन के लिखित प्रश्न के जवाब में बताया गया कि झांसी रेलवे स्टेशन का नाम वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन करने का प्रस्ताव मिला है। केंद्र तय प्रक्रिया के अनुसार संबंधित एजेंसियों की टिप्पणियां और विचार आमंत्रित किये गए हैं।